Loading...
 

उपालम्भ काव्य

उपालम्भ काव्य वह काव्य है जिसमें प्रेमी को भांति-भांति से उलाहना दिया जाता है। ये उलाहना वास्तव में प्रेमी की निन्दा नहीं होती और न ही उसकी वास्तविक शिकायत। बल्कि गहरी आत्मीयता और प्रेम के कारण यह आशा और विश्वास की उलाहना के रूप में अभिव्यक्ति मात्र है।

प्रेम-विरह के लोक गीतों में यह प्रचुर मात्रा में मिलता है। गोपियों और राधा द्वारा कृष्ण को उपालम्भ से भी कृष्णभक्ति साहित्य भरा पड़ा है।


Contributors to this page: hindi .
Page last modified on Thursday July 31, 2014 06:26:28 GMT-0000 by hindi.