Loading...
 
अंग्रेजी या इंगलिश एक भाषा है जिसे मूलत: अंग्रेज बोलते थे, परन्तु यह आज लगभग सम्पूर्ण विश्व में बोली जाती है। यदि भूभाग को आधार बनाया जाये तो यह विश्व के सर्वाधिक भूभाग में बोली जाने वाली भाषा है। यदि कहा जाये कि यह विश्व की सम्पर्क भाषा है तो अतिशयोक्ति नहीं होगी।
यद्यपि इस भाषा का उद्भव इंगलैंड में हुआ था, तथापि इसका प्रयोग अब संसार भर में किया जा रहा है। सांस्कृतिक तथा व्यापारिक आदान-प्रदान में अंग्रेजी भाषा का प्रयोग बहुसंख्यक लोग कर रहे हैं।
यदि अंग्रेजी बोलने वाले लोगों की संख्या को आधार बनाया जाये तो कहा जा सकता है कि चीनी भाषा के बाद यह विश्व की दूसरी सर्वाधिक बोली जाने वाली भाषा है।
इंगलिश नौवीं शती से बोली जा रही है जिसे पुरानी अंग्रेजी के नाम से भी जाना जाता है। ब्रिटेन के ऐंग्ल, सैक्सन और जूट लोगों में यह बोलचाल के रुप में प्रचलित भाषा थी। इसी भाषा को इंगलिश कहा जाता था जिसके आधार पर उन सभी भूभागों को इंगलैंड नाम दिया गया जहां इस भाषा का प्रचलन था।
अंग्रेजी भाषा का स्वरुप आदि काल से बदलता रहा क्योंकि विदेशी प्रभुत्व में इस भूभाग के आते रहने के कारण केल्ट जाति की भाषा में रोमन का समावेश 43 ईस्वी सन् में तथा जर्मनी की ट्यूटन जातियों की भाषा का प्रभाव पांचवीं शताब्दी में हुआ। रोमन साम्राज्य को खदेड़ने का बाद भी वहां के मूल लोग शीघ्र ही ट्यूटन जातियों के अधीन हो गये थे जिन जातियों में मूल रुप से ऐंग्ल, सैक्सन और जूट जातियां थीं।
इन जातियों ने वहां की केल्ट जातियों के लोगों को भागने पर विवश कर दिया तथा लगभग डेढ़ सौ वर्षों के अन्दर ब्रिटेन के मूल निवासी भागकर वेल्स, कॉर्नवाल, केल्ट आदि सुदूर स्थानों पर चले गये।
अंग्रजी भाषा का उदय इन्हीं नवागंतुक जातियों की बोलचाल की भाषा के रुप में हुआ, परन्तु इसमें मूल निवासियों की केल्टिक भाषा का भी समावेश था। ग्यारवीं शताब्दी तक जो भाषा बोली जाती थी उसे प्राचीन अंग्रेजी भाषा कहा जाता है।
सन् 1066 ई में नार्मन राजा विलियम द कॉंकरर द्वारा अंग्रेजों को हेस्टिंग्स के युद्ध में परास्त कर देने के बाद प्राचीन अंग्रेजी भाषा में परिवर्तन का काल प्रारम्भ हुआ। फ्रांस में बसे हुए ये नार्मन मूलतः डेन जातियों के थे जो वहां शताब्दियों से रह रहे थे तथा इसके कारण उनकी भाषा पर फ्रास के लोगों की भाषा का प्रभाव था। उनके इंगलैंड आने पर अंग्रेजी भाषा में नॉर्मन, या यूं कहें कि फ्रांसीसी भाषा का प्रभाव आने लग गया। नॉर्मन और सैक्सन भाषा इतनी घुली-मिली की भाषा का एक नवीन स्वरुप ही उभर आया। उसके बाद 15 वीं सदी तक जो भाषा प्रचलन में आयी उसे मध्यकालीन अंग्रेजी भाषा कहा गया।
आधुनिक अंग्रेजी भाषा का प्रादुर्भाव 15 सदी में हुआ जो अनेक परिवर्तनों के साथ आज हमाने सामने है।
अंग्रेजी भाषा के साथ-साथ अंग्रेजी साहित्य में भी विकास होता चला गया।


Contributors to this page: hindi .
Page last modified on Tuesday December 11, 2012 06:50:28 GMT-0000 by hindi.